सोमवार, 18 मार्च 2013


ढूंढ़ते ढूंढ़ते  जिंदगी थक गयी 
एक दिया सा कहीं रह गुजरों में था 
चलते रहे रास्तों में ता उम्र हम 
मंजिलें  तक़दीर के फ़साने में था 
सोचा न मिलूँगा उससे कभी 
मगर वो ख्वाबों के महलों में था 
भागता रहा पल- पल जिससे बचकर ...
होश में आया तो वो मेरे पहलु में था...

3 टिप्‍पणियां:

  1. sahi hai kisi aur ne bhi kaha hai jisko dhoondha gali gali vo mere ghar ke pichhvade mili . .बहुत सुन्दर भावनात्मक प्रस्तुति . आभार हाय रे .!..मोदी का दिमाग ................... .महिलाओं के लिए एक नयी सौगात आज ही जुड़ें WOMAN ABOUT MAN

    उत्तर देंहटाएं
  2. शालिनी कौशिक जी.. आपका बहुत बहुत आभार .. ..

    रजनीश झा सर.. आपका भी बहुत बहुत आबार..

    उत्तर देंहटाएं