रविवार, 6 मार्च 2011

बैठक

याद आता
है वो अपना दो कमरे को घर
जो दिन मैं
पहला वाला कमरा
बन जाता था
बैठक
बड़े करीने से लगा होता था
तख्ता, लकड़ी वाली कुर्सी
और टूटे हुए स्टूल पर रखा
होता था उषा का पंखा,
आलमारी मैं होता था
बड़ा सा मर्फी का

रेडियो

वही हमारे लिए टी.वी था

सी डी था और था होम थियेटर

कूदते फुदकते हुए

कभी कुर्सी पर बैठना

कभी तख्ते पर चढ़ना

पापा की गोद मैं मचलना

दिन भर

कोई न कोई

आता ही रहता था

मम्मी लगातार चाय लाने मैं

व्यस्त रहती थी

बहनों द्वारा बनाई गयी

पेंटिंग जो

बैठक की शान हुआ करती थी

सरे दिन कोई न कोई तारीफ

करता ही रहता था

चाहे वो अयूब चाची या सुलेमान मास्टर
समय बीता ...........
सपने कुछ बढे

बैठक को सँवारने

मैं हम कुछ न कुछ करते ही
रहते थे
के जंजाल के

के सँवरने लगी .....
सुन्दर बैठक के सपने
बनते और पनपते रहे
उन सपनों के जंजाल
को लिए न जाने कितने वर्ष
यूँ ही बीत गए
समय के साथ फेंगशुई, वास्तु की
बारीकियां भी पढता रहा गुनता रहा
सजाता रहा अपनी
बैठक,
अब वो लकड़ी वाली कुर्सी
की जगह अलात्मक गद्देदार
सोफे हैं, सुन्दर सी मेज है
वास्तु के अनुसार
कोने मैं फिश एक्वेरियम भी लगा है
और तो और
मम्मी पापा की सुन्दर फोटो
भी बैठक मैं घुसते, सामने नहीं
लगा सका
वास्तु के दोष के कारन
वो भी एक तरफ दीवाल पर चिपकी है
जो लगातार यह सब देख रही है
बहुत दुःख है
जिसने हमें इस काबिल करा
उसकी फोटो भी सामने नहीं
लगा सका ............
बैठक को बहुत ही
नजाकत से रखा है
चमचमाता हुआ सफ़ेद फर्श है
बहुत करीने से सफाई दोनों टाइम होती है
तमाम चीजें बड़ी
नफासत से राखी हुयी है
पर नहीं आता है अब
कोई मेहमान
समय की कमी के
कारण....
कोई आता भी है
तो बहुत जल्दी मैं
दरवाजे से ही लौट जाता है
खड़े खड़े
विदा कर दिया जाता है
महल जैसी बैठक मैं
बैठने उठने के
नियम तय किये गए हैं
हर किसी को
थोड़े ही बैठाया जाता है
बैठक मैं
उन गद्देदार सोफों पर
इसलिए
न सजते हैं काजू
अब प्लेटों मैं
न ही ट्रे मैं चाय सजती है
और बैठक हमारी बंद ही रहती है
मिटटी के दर से
कहीं गन्दी न हो जाये
बैठक................

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें