सोमवार, 16 अप्रैल 2012

"एक समंदर था जिसे पैरों तले रौंद दिया 

एक दरिया है जिसे पार नहीं कर पाए"

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें