रविवार, 22 अप्रैल 2012

सच है समय का मलहम..
हर ज़ख्म भर देता है.. 
मगर जाते जाते...
निशां छोड़ जाता है... 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें